Tuesday, 28 February 2017

"अधूरी प्यास"


                                                            "अधूरी प्यास"            


दिल में तलब है ,आज़ फिर
कुछ कर दिखाऊँ ,फिर वही ,
फ़िर वही ,हूँ सोचता
कुछ अनकही बातें नईं  ,

हूँ जानता मैं भूत को
भविष्य जो ,अपना नहीं
खंगालता मैं कंकाल को
मिल जाये कुछ ,आशा यहीं ,

चलता हूँ अक्सर रोज़ मैं
पा जाऊँ मैं ,राहें कहीं ,

पाँवों में, छालें पड़ रहे
पथरीली राहें देखकर
आँखों में कंकड़ गड रहे
चलने की इन पर सोचकर ,

अक़्सर जहन में तैरतीं
कुछ कर दिखाने की मग़र
पीछे क़दम हैं लौटते
लहरों को उठता देखकर ,

कुछ पल ठहरता मैं ज़रा
जानें क्यूँ ! यह सोचकर
जायें न ढह ! अस्तित्व मेरा
लहरों से यूँ ,रेत पर ,

अम्बर है नीला मन में मग़र
है रात काली ,स्याह सी
दिखती नहीं मुझको कहीं
क़ोई पुरानी ,राह भी। ........


                      "एकलव्य"    

                                                                                                                                                            छाया चित्र स्रोत :https://pixabay.com

Post a Comment