Tuesday, 7 February 2017

"तलाश"


                                                           


                                                                 "तलाश"


ग़म के आँसू निकल रहें हैं
आज जो तेरे नैनों से
मोती बनकर सरक रहें हैं ,आज जो तेरे अखियों से ,
यादें बनकर कल आयेंगी ,सुने मेरे आँगन में।

हम बैठेंगे राह में तेरे ,बनकर अनजाने राही
जब तू हमें पुकारेगा ,हो जायेंगे हमराही। .......



                "एकलव्य "    
                                   


Post a Comment