Sunday, 29 January 2017

"बस अपनी क़िस्मत समझकर "

                       


                                             "बस अपनी क़िस्मत समझकर "



कुछ भूलीं सी ,बातें याद हैं
वो लंबी -लंबी रातें याद हैं
ठंडी -ठंडी सांसें याद हैं
याद भुलाये न भूलें याद है ,

तन पर कपड़ा ,ना पेट में रोटी
मन के अंदर ,एक इच्छा छोटी
छोटी सी एक ,दुनिया मेरी
जिनमें लगायें ,पौध कई ,

फसलों को है कोई काटे
डाले पानी और कोई
कुछ ज़मीन मेरी थी बंजर
किया उपजाऊ ,मैंने कुछकर ,

अब ज़मीन पर हक़ हैं जमायें
एक अनजाना ,मालिक है बनकर
रातों -पहर मैं पंक्षी उड़ाऊँ
केवल रखवाला हूँ ,ये कहकर ,

बूढ़े हाथों ने पत्थर हटायें
जिस जमीन से ,मैंने रोकर
नंगे पैर था ,हल चलाया
दो बैलों की जोड़ी लेकर ,

चट्टानों को खेत बनाया
सुबह -शाम बस पत्थर तोड़कर
फसल निकली है, सतह फोड़कर
पाई -पाई रक़म जोड़कर ,

काट ले गए ,फसल हमारे
मेरे सारे ,अरमान कुचलकर
अपने हालत पे, मैं रोऊँ
बस अपनी यही ,क़िस्मत समझकर।

                               "एकलव्य "
 

                                                                 
प्रकाशित : वीथिका (दैनिक जागरण )
                                                                     
 छाया चित्र स्रोत: प्रकाशित : https://pixabay.com                                                                                                                                 

"कहीं मेरे कफ़न की चमक "



                                                         "कहीं मेरे कफ़न की चमक "


कुछ जलाये गए ,कुछ बुझाये गए
कुछ काटे गए ,कुछ दफ़नाये गए
मुझको मुक़्क़म्मल जमीं ना मिली
मेरे अधूरे से नाम मिटाए गए ,

एक वक़्त था ,मेरा नाम शुमार हुआ करता था ,
चंद घड़ी के लिये ही सही ,  ख़ास -ओ -आम हुआ करता था ,
रातों -दिन महफ़ील जमती थी ,मेरे महलों की चौखट पर
चारों पहर जलसे होते थे ,मेरी नुमाइंदगी में
करते थे लोग सज़दे, मेरी सादग़ी में ,

एक वक़्त आज है ,अकेला क़ब्रिस्तान में पड़ा -पड़ा
ना जाने किसका इंतज़ार करता रहता हूँ।

कुछ परिंदे बैठें हैं मेरी क़ब्र की दिवार पर
पत्थर पे लिखी स्याही ,कुछ मिट सी गई है
मेरे सीने पर रखे वो सफ़ेद से संगमरमर
घिस से गयें हैं ,

हवाओं के चलनें से उड़े सूखे पत्ते ,जिन्हें ढ़कने को आतुर हैं
धूल भरीं आंधियां ,जैसे हुक़्म-परस्त हो गयीं हों
मेरे  सीनें पर जमती जा रहीं हैं ,

फ़िर भी  आज़ एक फ़िक्र सताती है मुझे
कहीं मेरे कपड़े मैले ना हों जायें
कहीं मेरी रुह ,दाग़दार ना हो जाए
कहीं मेरे  कफ़न की चमक ,फीक़ी ना पड़ जाए।



                                 "एकलव्य "                 


छाया चित्र स्रोत : https://pixabay.com                                      

Thursday, 26 January 2017

"भारतवासी होने का गौरव "

                             


                                                         "भारतवासी होने का गौरव"


कौतूहल करती स्वतंत्रता की  लहरें ,आज ठंडी पड़ गयीं
क्रांतिकारी विचारधारा ,खाईयों में मिल गयीं

गर्जना पाले हैं मन में ,आज उनको फ़ूक दे
सोई हुई संवेदनाओं को ,एक नया तूं रूप दे ,

कर तूं रचना उस समाज का ,क्षणभर अहम् को त्याग दे
महाभारत रण बना है देश ,नाम तूं अपना व्यास दे ,

धर्म -अधर्म का युद्ध छिड़ा ,तूं धर्म का साथ दे।

स्मरण तुझे जो क्षणभर भी हो ,ह्रदय में उठती चिंगारी
प्रज्वलित कर दे घर -घर दीपक ,जन को सत्य का मार्ग दे ,

अँधेरा गरजे है नभ में ,बिजली बनकर राग दे
काले मेघ भी तरसेंगे ,कोमल -प्रबल प्रवाह दे ,

मानव -मानव घृणा करें हैं ,बंधुत्व एकता जाप दे
जात -पात की मानव रचना ,नवल रचना इंसान दे
ना हो देश में कोई दंगे ,थाप लगा तूं प्रेम की
भारतवासी  होने का गौरव ,जन को तूं  आभास दे।  .........



                              "एकलव्य"  


 छाया चित्र स्रोत: https://pixabay.com                                      
                                                                

Wednesday, 25 January 2017

"भारतवर्ष की जय हो"


                                         

                                                      "भारतवर्ष  की जय हो"



जननायक ,अधिनायक ,भारतवर्ष  की जय हो
उड़ता हूँ मैं अम्बर होकर ,लेकर झंडा देश का प्यारा
गलियों -गलियों ,कूचे -कूचे ,हट जाओ ये देश हमारा।

त्याग बना है ,चिन्ह देश का
कहलाया भारत ये दानी
विश्वपटल पर मान बढ़ाया
धर्म निरपेक्ष हूँ ,कहकर बानी।
जननायक ,अधिनायक ,भारतवर्ष  की जय हो

स्वावलंबन प्रकृति ,जिसकी
समाहित शक्ति जिसमें है
बिना सहारों के चलने की
सत्य मार्ग पर इसकी है।
जननायक ,अधिनायक ,भारतवर्ष  की जय हो

आत्मसात करने की प्रवृति
हर बोली -भाषा ,रंग- भेद से निवृति
गरिमा तेरी ,जिसमें है।
 जननायक ,अधिनायक ,भारतवर्ष  की जय हो

माटी बना ,तिलक हो जिसका
लगे ललाट ,स्वर्ण बन जाये
छुए जो तू ,सौभाग्य है तेरा
जननायक ,अधिनायक ,भारतवर्ष  की जय हो

क्षमाशीलता ,जिसकी प्रकृति
बन जाए ,जो तेरी प्रवृति
जन -जन में जो ,प्राण जगाए
स्वमं है तू आभास दिलाए।
जननायक ,अधिनायक ,भारतवर्ष  की जय हो ........

                                                "एकलव्य "
                                                                     


छाया चित्र स्रोत: https://pixabay.com

Monday, 23 January 2017

"धड़धड़ाती जिंदगी"


                                                           "धड़धड़ाती जिंदगी"


धड़धड़ाती जिंदगी ,बौख़लाती जिंदगी
ग़म के बादलों सी यूँ ,कश्मोकश  में जिंदगी
दूर जाती जिंदगी ,पास आती जिंदगी
घूम -घूम बादलों सी ,लड़खड़ाती जिंदगी

मौत के समंदरों में ,फंसती जाती जिंदगी
स्वयं के ही हौंसलों से ,पार आती जिंदगी
होते साँझ डूबती ,ग्लासों में ये जिंदगी
नाव पर है तैरती ,प्रातः होते जिंदगी

कभी -कभी उदासियों में ,ग़ुम हुई सी  जिंदगी
किल्कारियों पे बैठकर ,खिलखिलाती जिंदगी
रास्तों पे लेटकर ,भीख माँगे जिंदगी
हाँथ हैं अशक्त से ,फिर भी ख़ुश है जिंदगी

झूठ के दिखावों  में ,मस्त है ये जिंदगी
बेरुख़ी में अपनों से ही ,पस्त है ये जिंदगी
जलती आग चूल्हे में ,बुझती हुई है जिंदगी
बुझती है ,तो बुझने दे ,फ़िर जलेगी जिंदगी

धड़धड़ाती जिंदगी ,बौख़लाती जिंदगी
जिंदगी ये जिंदगी
ये जिंदगी अज़ीब है
अज़ीब सी ये जिंदगी


    "एकलव्य "    
                                 
                                                                       

Sunday, 15 January 2017

"कालजयी कलम का सिपाही"

                       
                                         "कालजयी कलम का सिपाही"



                            "सरल संदेशों में लिपटा ,हूँ मैं अनजाना राही ,
                      चंद शब्द में, बात मैं कहता  ,कालजयी कलम का सिपाही "

                                                           "एकलव्य "

                                      

                                 





                                                             

"पिता"


                                                                      "पिता"


बचपन में अंगुलियां पकड़कर ,चलना सिखाया
क्या बुरा ,क्या भला मुझको बतलाया।

रोता हुआ जब कभी, उनके पास आया
हँसते हुए उन्होंने मुझको ,गोद में उठाया।

उठाते हुए लाड़ -प्यार से मनाया
कहते हुए, मुझको समझाया।

बेटा तू, तो आसमान का तारा है
हँस के देख ,ये जग तुम्हारा है।

एक दिन ,दुनिया में नाम करेगा
तू चमकता हुआ सूरज ,मेरी पहचान बनेगा।

मैं क्षण भर ,प्रसन्न हो जाया करता था
ख़ुद पे मैं ,इठलाया करता था ,
पिताजी -पिताजी कहकर
चिल्लाया करता था।

ग़म की आंधियां रोक दे ,आज वो शख़्स नहीं
मुश्किलों में संभलना सीखा दे ,आज वो वक़्त नहीं

"आज लिपटी कागजों में ,धुंधली वो परछाइयाँ ,
साफ़ करता हूँ मैं पल -पल ,अमिट दिखती स्याहियाँ ,
कुछ गिरें थे बोतलों से ,बाक़ी आँखों में सजे ,
अच्छा होता गिर ही जाते ,जो बचे पलकों तले। (सभी  पूज्य पिताओं को समर्पित )


     "एकलव्य"        
"एकलव्य की प्यारी रचनायें" एक ह्रदयस्पर्शी  हिंदी कविताओं का संग्रह 
                 
                                                               

Wednesday, 11 January 2017

"आओ बैठो ,देश की बात करें "



                                             
                                             "आओ बैठो ,देश की बात करें"


आओ बैठो ,देश की बात करें
हृदयस्पर्शी ,   मुलाक़ात   करें
कुछ खट्टी ,कुछ मीठी सी
यादों की बारात करें
आओ बैठो ,देश की बात करें।
                                                            चित्त को शीतल ,देनेवाली
                                                            लंबी -लंबी   रात   करें
                                                            आओ बैठो ,देश की बात करें।

रंग -बिरंगे सपनों वाले ,भारत का आगाज़ करें
परतंत्र विचारों को पिंजरों से ,कुछ क्षण तो आजाद करें
आओ बैठो ,देश की बात करें।
                                                             अखण्ड भारत के सपनों को ,मिलकर हम साकार करें
                                                            स्वर्णिम भारत हो देश हमारा ,सुनहरा एक इतिहास रचें
                                                                        आओ बैठो ,देश की बात करें।

शोषित होती पीढ़ी का ,प्रखर एक आवाज बनें
विश्वपटल पे अंकित हो ,अमिट सी दिखती छाप बनें
आओ बैठो ,देश की बात करें।
                                                                      मिथ्या से भरे इस जीवन में ,सच्चाई का रंग भरें
                                                                      कलुषित होते आजादी को ,कलंकविहीन हम मिलके करें
                                                                       आओ बैठो ,देश की बात करें।

     "एकलव्य"                                                                        
                                                     

Monday, 9 January 2017

" मैं बूंदें ,बन जाऊँ"


                                                  "मैं बूंदें ,बन जाऊँ"
                                                             

मैं बूंदें  बन जाऊँ
गिर जाऊँ बनकर ,नवल चेतना
मानवमात्र की ,एक प्रेरणा
स्मरण दिलाऊँ ,उनकी शक्ति
शक्तिहीन कहते हैं स्वयं को
                                  मैं बूंदें ,बन जाऊँ .........

                                                                              प्रेषित करूँ, प्रेम  संचार
                                                                               करूँ बन , अमृत प्रहार
                                                                                बहाऊँ प्रकाश की,एक बयार
                                                                                हृदय से होकर ,ह्रदय के पार।
                                                                                                          मैं बूंदें ,बन जाऊँ   .......
   प्रवाह हो मेरा ,बिना भेद
  जाति -धर्म से पूर्ण स्वतंत्र
  लेकर दौड़ू ,एक धर्म
   मिला हो ,जिसमें देशप्रेम।
                                मैं बूंदें ,बन जाऊँ   .......


सींचूँ धरा को, निर्मल जल से
देशभावना के करतल से
उगे जिसमें ,सौहार्द की फसलें
काटें उनको जन ,प्रेम से मिलके।
                                    मैं बूंदें ,बन जाऊँ  .........

                                                                              प्रेरणा की लवण मिली हो
                                                                              हो समायोजित ,देश की खुश्बू
                                                                              जन -जन में संचार करूँ जो
                                                                              देशभक्ति से ,ओत -प्रोत हो।      
                                                                                                        मैं बूंदें ,बन जाऊँ   .........


    "एकलव्य "  


                                                             
                                                                             



                                                                         



Wednesday, 4 January 2017

"तारे ज़मीन पर लाऊंगी"

                                                                       
 "तारे ज़मीन  पर लाऊंगी"

                         
जब पैदा हुई ,माँ बड़ी खुश थी
                    पिता जी रुष्ठ थे,
                     मौसम  हसीन था।
                    दादी गमगीन थी
                    दादा मस्त थे।
 
पड़ोसी बोले, लक्ष्मी आई है
किस्मत साथ लाई है,
दरवाज़े खोल दो
कोई  हसीन सा ख़्वाब लाई है ,  

बढ़ती मैं थी ,घटता प्यार था
हँसती मैं थी ,दुःखी संसार था।
पिता के कंधो की बोझ थी
बस यही कहानी हर रोज थी।

मैं कहती पिताजी ,मैं पढना चाहती हूँ
मैं लड़की ही सही ,आगे बढ़ना चाहती हूँ।


एक ख्वाब संजोए थे
आसमान के तारे गिनकर।
मन में सब्ज़बाग लगाए थे
अपने आंसुओं  से सींचकर।

 मन में इच्छाएँ दबीं थीं
 भीतर कुछ आग लगी थी,
मैं कहती कुछ कर दिखाऊँगी
चाँद ना ही सही ,तारे ज़मीन पर लाऊंगी।


   
                        "एकलव्य "


"एकलव्य की प्यारी रचनायें" एक ह्रदयस्पर्शी हिंदी कविताओं एवं विचारों का संग्रह    
प्रकाशित :वीथिका

Sunday, 1 January 2017

" धुंधले तारे "

                                                         

                                                             
                                                              "  धुंधले तारे "


                              क़ुछ अनकहे ,कुछ कहते हैं 
                               कुछ कहने की ,कोशिश है। 
                               चन्द शब्द में सार छिपा   है 
                                ना  कहने  की    रंजिश   है। 


                                                                           लोगों के सजाए इस समाज में ,
                                                                           कुछ करने की     ख्वाहिश है। 
                                                                           फिक्र अगर है हाथ  पकड़ लो 
                                                                            छोटी        मेरी    गुज़ारिश है। 


माना हम सामान्य नहीं हैं
सामान्य सी दिखती दुनिया में।
हो अवसर ,तो दे दो हमको
पहचान तुम्हारी दुनिया में।
नाम तुम्हारी दुनिया में.. ...... .. .


                                                                                                                                  "  एकलव्य "




" एक आश बाकी है "

                                                   


                                                            "  एक आश   बाकी है "


                                                     जाड़ो की वो रात भूली नही मुझे

            अँगीठी के सामने बैठा -बैठा सोचा करता था
            अपने अध् -पके    बाल       नोचा करता था।


                                                                          पेट में लगी आग ,मन में विध्वंश मचाती थी
                                                                         सूखी हुई फसले ,शीतल तन को जलाती थी।


आज    फिर       वही     खेतों में
एक जोड़ी वाले बैल ,हांका करता हूँ।
आज फिर वही  सूखी    ज़मीन     पर
स्वर्ण         उगाया        करता हूँ।

                                                                                      आज       फिर      वही
                                                                                     मेरे   खाने की        थाली       खाली है।
                                                                                     लोगों के गोदाम    ,अन्न से भरपूर हैं
                                                                                      मेरे अधूरे सपने ,पूरी तरह चकना -चूर हैं।

आज भी मेरी विवाहिता ,लोगों के जूठन धोती है
आज भी मेरे बच्चे ,एक रोटी के लिए रोते हैं।


                                                                        आज भी मैं वर्ष भर ,फसल कटने का इंतजार करता हूँ
                                                                         थोड़ा ही सही उस कृपालु ,ईश्वर का ऐतबार करता हूँ।

फसल पक जाती है ,दाम मिलते नहीं
कर्ज़ इतना है,चुकता होता नहीं।

आज भी मेरे बच्चे भूखे हैं
मेरे खेत बिना पानी सूखे हैं।
फिर भी जीवन में एक आश   बाकी है
थोड़ी ही सही ,अधूरी प्यास बाकी है।


                               

                                                          " एकलव्य "