आपका स्वागत है।

रविवार, 15 जनवरी 2017

"कालजयी कलम का सिपाही"

                       
                                         "कालजयी कलम का सिपाही"



                            "सरल संदेशों में लिपटा ,हूँ मैं अनजाना राही ,
                      चंद शब्द में, बात मैं कहता  ,कालजयी कलम का सिपाही "

                                                           "एकलव्य "

                                      

                                 





                                                             
एक टिप्पणी भेजें