Sunday, 29 January 2017

"बस अपनी क़िस्मत समझकर "

                       


                                             "बस अपनी क़िस्मत समझकर "



कुछ भूलीं सी ,बातें याद हैं
वो लंबी -लंबी रातें याद हैं
ठंडी -ठंडी सांसें याद हैं
याद भुलाये न भूलें याद है ,

तन पर कपड़ा ,ना पेट में रोटी
मन के अंदर ,एक इच्छा छोटी
छोटी सी एक ,दुनिया मेरी
जिनमें लगायें ,पौध कई ,

फसलों को है कोई काटे
डाले पानी और कोई
कुछ ज़मीन मेरी थी बंजर
किया उपजाऊ ,मैंने कुछकर ,

अब ज़मीन पर हक़ हैं जमायें
एक अनजाना ,मालिक है बनकर
रातों -पहर मैं पंक्षी उड़ाऊँ
केवल रखवाला हूँ ,ये कहकर ,

बूढ़े हाथों ने पत्थर हटायें
जिस जमीन से ,मैंने रोकर
नंगे पैर था ,हल चलाया
दो बैलों की जोड़ी लेकर ,

चट्टानों को खेत बनाया
सुबह -शाम बस पत्थर तोड़कर
फसल निकली है, सतह फोड़कर
पाई -पाई रक़म जोड़कर ,

काट ले गए ,फसल हमारे
मेरे सारे ,अरमान कुचलकर
अपने हालत पे, मैं रोऊँ
बस अपनी यही ,क़िस्मत समझकर।

                               "एकलव्य "
 

                                                                 
प्रकाशित : वीथिका (दैनिक जागरण )
                                                                     
 छाया चित्र स्रोत: प्रकाशित : https://pixabay.com                                                                                                                                 
Post a Comment