Monday, 13 November 2017

''अवशेष''

''अवशेष'' 


सम्भालो नित् नये आवेग 
रखकर रक़्त में 'संवेग' 
सम्मुख देखकर 'पर्वत' 
बदल ना ! बाँवरे फ़ितरत 
अभी तो दूर है जाना 
तुझे है लक्ष्य को पाना 
उड़ा दे धूल ओ ! पगले 
क़िस्मत है छिपी तेरी 
गिरा दे ! आँसू की 'गंगा'
धुल दे,पाप तूँ सारे 
मैं तो आऊँगा ! अक़्सर 
तय है 'गमन' मेरा 
कल 'मैं' सा रहूँगा तुझमे 
क्षण में टूट जाऊँगा 
पकड़ना चाहेगा मुझको 
पकड़ न आऊँगा तुझसे 
मुँह के बल गिरेगा तूँ 
पश्चाताप है कहके 
धूमिल सी कुटिल वाणी 
सुनेगी ना चिता अग्नि 
कहेंगे 'भस्म' से अवशेष 
बुझती तेरी कहानी  

( अनवरत जारी है ! सत्य की खोज )

"एकलव्य"  
Post a Comment