आपका स्वागत है।

सोमवार, 11 नवंबर 2019

भागते रास्ते.... ( गीत )






भागते रास्ते....  ( गीत )




वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए ..... इसी रास्ते .....

मैं पुकारता ....यों ही रह गया
दबता गया  .......    क़दमों तले ....

वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए  .....इसी रास्ते .....

एक चीख़-सी ....  घुलती गयी ...... सुनता नहीं है ख़ुदा मेरा
शहनाइयाँ हैं कहीं बजे .......जलसा बड़ा है, नया-नया

वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए  .....इसी रास्ते .....

लेटा रहा ...... इसी तख़्त पे, ज़हमत सही वे आ रहे
आँखों से गिरते अश्क वो, वे कह रहे हैं ......ख़ुदा-ख़ुदा

वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए ..... इसी रास्ते .....

अब चलने को तैयार हैं ......मेला लगा देखो नसीब .....
वे कह रहे........ ग़मगीन हैं, अवसाद से हूँ भरा-भरा

वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए  .....इसी रास्ते .....

ठोकर में रक्खा था बहुत.... कोने का मैं सामान था
अब याद ... आता हूँ उन्हें, कहते हैं मुझको ख़रा-ख़रा.....

 वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए  .....इसी रास्ते .....

पाले बहुत थे स्वप्न जो .... पलभर में ज़र्रे हो गये
मौसम बड़ा ही ख़राब था ..... क़िस्मत ही ऐसी थी मेरी

 वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए .....  इसी रास्ते .....

मैं झाँकता .....  हूँ...... कुआँ-कुआँ, भरने को ख़ाली मन मेरा
नापा तो रस्सी छोटी थी,  घिरनी पे लटका ....रह गया

 वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए .....  इसी रास्ते .....

कुछ रह गये  ....ज़िंदा यहाँ .....वे कह गये .....  हम चल दिये
अब रह गयीं .....वीरानियाँ। ......मौजों में, वे तो बह गये । ....     

मरघट पे होगा .....ज़श्न-सा ......दीपक बनूँगा......  मैं यहाँ........
रौशन करूँगा .......  ये जहां ...... माटी-सा ख़ुद रह जाऊँगा। ......

 वो जो आए थे....... जो गुज़र गये
होते हुए ...... इसी रास्ते .....


'एकलव्य'



10 टिप्‍पणियां:

Anchal Pandey ने कहा…

वो जो आए थे.... जो गुज़र गए.... उफ्फ
दर्द भरी बहुत सुंदर हृदयस्पर्शी गीत।
सादर नमन आदरणीय सर। सुप्रभात 🙏

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वह ... बहुत इ कमल का गीत ...
सुन्दर गीत ...

Abhilasha ने कहा…

बहुत ही सुन्दर और भावनात्मक गीत

Rohitas ghorela ने कहा…

अन्तस् को छूता हुआ गीत।
भावपूर्ण।
कुछ पंक्तियां आपकी नज़र 👉👉 ख़ाका 

Ravindra Singh Yadav ने कहा…

जी नमस्ते,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (18-11-2019) को "सर कढ़ाई में इन्हीं का, उँगलियों में, इनके घी" (चर्चा अंक- 3523) पर भी होगी।
आप भी सादर आमंत्रित हैं….
*****
रवीन्द्र सिंह यादव

Anuradha chauhan ने कहा…

बेहतरीन गीत

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह

Anita Laguri "Anu" ने कहा…

. बहुत ही सुंदर गीत लिखा है आपने .....वह जो आए थे ...👌

Onkar ने कहा…

सुन्दर रचना

प्रेम सरोवर ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति.